“सुशांत”

यूँ तो रहा वो हरदम शिखर पर,
पर मेहनत जमीं से ही लगाया होगा।
लड़खड़ा कर सम्हाल लिया वो खुद को,
जब माँ को बचपन में उसने गंवाया होगा।
सपने हज़ार संजोए वो चकाचौंध के,
सपनो के शहर जब आया होगा।

(more…)

26+

Continue Reading “सुशांत”

Writer

A Writer Wrangle With Words, to Win the Writ on World's Wisdom. A writer can play with words beautifully without any exaggeration and deconstruct reality with ideas. S/he can Personify…

Continue Reading Writer